रणनीति चुनना

इंट्रा डे ट्रेडिंग के लिए स्टॉक्स कैसे चुनें?

इंट्रा डे ट्रेडिंग के लिए स्टॉक्स कैसे चुनें?

स्टॉक मार्केट में Out of the Money ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे शुरू करें ?

दूर के ऑप्शन्स (Out Of The Money Options)

दूर का ऑप्शन, जी हाँ दोस्तों, जो की हमेशा एक्ट्रॅक्टिव्ह इंट्रा डे ट्रेडिंग के लिए स्टॉक्स कैसे चुनें? दिखता है। हमें ललचाता भी है अपने परफॉर्मन्स से! यह हो जाता है 5 रूपये से 50 का 100 का या उससे भी ज्यादा। है ना?

दूर का छोटा ऑप्शन याने की ऐसा ऑप्शन जो अंडरलेयिंग असेट (शेअर,इंडेक्स) के "चालू कीमत से काफी दूर होता है।" यह हम सभी को मालूम है। कीमत के उतार-चढ़ाव से ऑप्शन में हलचल होती है। "तेज और बड़े बदलाव से" ही दूर के ऑप्शन में बड़ी बढ़त या गिरावट आती है। इस पर हमारा एकमत हो सकता है।

और इस पर भी की बड़े मुव्ह किसी बड़े फंडामेंटल या टेक्निकल के कारण ही आतें है। इसलिए स्ट्रॉन्ग फंडामेंटल न्यूज़ या टेक्निकल सेट अप को बनते हुए देखकर ही Out Of The Money ऑप्शन्स में B.T.S.T. का ट्रेड लिया जाता है।

दूर का कॉल ऑप्शन ( Out Of The Money Call Option)

उदाहरण

1 ) कंपनी के शेअर की कीमत Rs. 500 है। ऑप्शन के लिए स्ट्राइक प्राइस 5 रूपये के फर्क से है। तो Rs. 500 से ज्यादा की स्ट्राइक प्राइसेस जैसे की 505, 510, 515, . कॉल ऑप्शन आउट ऑफ़ द मनी कहलातीं है। यहाँ दूर का छोटा कॉल ऑप्शन Rs. 550 स्ट्राइक प्राइस का हो सकता है।

2 ) बॅंक निफ़्टी अगर 36,000 पर है तो 36,100, 36,200, 36,300, . यह कीमतें कॉल ऑप्शन के लिए आउट ऑफ़ मनी कहलातीं है। इसमें दूर का छोटा कॉल ऑप्शन 37,000 के स्ट्राइक प्राइस का हो सकता है।

दूर का पुट ऑप्शन ( Out Of The Money Put इंट्रा डे ट्रेडिंग के लिए स्टॉक्स कैसे चुनें? Option)

उदाहरण

1 ) कंपनी के शेअर की कीमत Rs. 500 है। Rs. 500 से कम की स्ट्राइक प्राइसेस जैसे की 495, 490, 485, . यह आउट ऑफ़ द मनी पुट ऑप्शन कहलातीं है। यहाँ दूर का छोटा पुट ऑप्शन Rs. 450 स्ट्राइक प्राइस का हो सकता है।

2 ) बॅंक निफ़्टी अगर 36,000 पर है तो 35,900, 35,800, 35,700, . यह कीमतें पुट ऑप्शन के लिए आउट ऑफ़ मनी होतीं है। इंट्रा डे ट्रेडिंग के लिए स्टॉक्स कैसे चुनें? इसमें दूर का छोटा पुट ऑप्शन 35,000 तक के स्ट्राइक प्राइस का हो सकता है।

सुचना

स्टॉक मार्केट इंडेक्स का दूर का ऑप्शन

अब आतें है स्टॉक मार्केट में। और अपना अकाउंट खोलकर उसमें थोडासा पैसा डालतें है। और अपने अकाउंट पर "F&O Trading की सुविधा" चालू करतें है। हमने यह किया है तो चलिये आगे बढ़ते है। फंडामेंटल एनालिसिस अच्छे से करके हम आसानी से इंडेक्स के दूर के छोटे ऑप्शन्स में ट्रेडिंग करके बड़ा मुनाफा कमा सकतें है।

1 ) इंडेक्स जैसे की "निफ़्टी, बॅंक निफ़्टी" इनमें दूर के ऑप्शन्स में ट्रेडिंग करना अच्छा होता है। इसमें आवश्यक " व्होल्युम होता है।" इंडेक्स के ऑप्शन्स में बायिंग, सेलिंग आसानी से कर सकतें है।

2 ) इंडेक्स के ऑप्शन्स का लॉट साइज छोटा है। जैसे की निफ़्टी का एक लॉट 50 और बॅंक निफ़्टी का तो सिर्फ 25 क्वान्टिटी का एक लॉट आता है। कम कॅपिटल में हम "ज्यादा लॉट लें सकतें है।" एवरेज कर इंट्रा डे ट्रेडिंग के लिए स्टॉक्स कैसे चुनें? सकतें है। और थोड़ा-थोड़ा बेच सकतें है।

3 ) इंडेक्स के ऑप्शन्स में बहुत बड़े मात्रा में ट्रेडिंग होती है। इस लिए "कोई व्यक्तिगत मनमानी नहीं कर सकता।" कोई तय करके अपने हिसाब से भाव बढ़ा या गिरा नहीं सकता।

कंपनी के शेअर का दूर का छोटा ऑप्शन

1 ) कंपनी का शेअर "F&O लिस्ट में होना आवश्यक है।" हमें इसपर ध्यान देना चाहिये की जिन शेअर्स के दूर वाले ऑप्शन्स में व्होल्युम नहीं है। उन में ट्रेडिंग करने से हमें बचना चाहिये।

2 ) कंपनी से जुड़ा कोई "विशेष कारण होना चाहिये" जैसे की न्यूज़। न्यूज़ अच्छी हो या बुरी, उसका हमें शीघ्र पता लगाके दूर का ऑप्शन लेना होता है। अच्छी खबर के चलते कॉल लेना है। बुरी खबर हो तो पुट ऑप्शन लेना चाहिये। इस तरह की सारी न्यूज़ हम इन्व्हेस्टिंग इंडिया पर पढ़ सकतें है।

3 ) "ओपन इंटरेस्ट और चेंज इन ओपन इंटरेस्ट" को हम N.S.E.India पर कंपनी का नाम सर्च करके, डेरीव्हेटिव्हज में, ऑप्शन चेन में देख सकतें है। उनका जिक्र Change IN OI और OI ऐसा किया इंट्रा डे ट्रेडिंग के लिए स्टॉक्स कैसे चुनें? गया है।

4 ) टेक्निकल एनालिसिस का महत्व ध्यान में लेतें हुए ट्रेड के लिए टेक्निकली राइट एन्ट्री पॉइन्ट तय करना है। टेक्निकल एनालिसिस शेअर के चार्ट का करना होता है। सपोर्ट,रेजिस्टन्स और ट्रेन्ड लाइन तो शेअर इंट्रा डे ट्रेडिंग के लिए स्टॉक्स कैसे चुनें? के चार्ट पर ही लगानी है। दूर के छोटे ऑप्शन का चार्ट "मुव्ह की तुलना करने के लिये" देखा जा सकता है।

D ) "दोन स्टॉप लॉस की कीमतों में जो छोटी है, वह स्टॉप इंट्रा डे ट्रेडिंग के लिए स्टॉक्स कैसे चुनें? लॉस चुनें।" और जाहिर सी बात है की इससे लॉस कम होगा।

स्मॉल ऑप्शन स्टॉक्स इन इंडिया

लॉट साइज के बड़े होने से एकदम छोटा ऑप्शन लेने जायें तो भी बहुत कॅपिटल की जरूरत होती है। हमें ट्रेडिंग करने के लिए कम क्वांटिटी वाला अच्छा शेअर चुनना होता है। "जिस शेअर का प्राइस ज्यादा है उसका लॉट साइज कम होता है।" समय-समय पर लॉट साइज में बदलाव होतें रहतें है।

छोटे इंट्रा डे ट्रेडिंग के लिए स्टॉक्स कैसे चुनें? ऑप्शन का स्टडी

इसमें क्या-क्या स्टडी करना है। कौन-कौन से टॉपिक समज़ने है। यह समझ लें तो बहुत आसान है। तो आइये मिलकर शुरू करतें है।

1 ) पहला कदम यह है की Stock Market क्या है यह प्राथमिक जानकारी लेना। यह हमें मालूम है तो आगे बढ़ते है।

2 ) फिर हमें फंडामेंटल और टेक्निकल एनालिसिस के बारें में जानना है। इससे हमें ऑप्शन्स ट्रेडिंग करते वक्त आसानी होतीं है। लगातार बनते चार्ट पर सही तरीके से "टेक्निकल सेट-अप" लगाना फायदेमंद होता है।

3 ) चार्ट्स के अलग अलग प्रकार होतें है। इनका स्टडी करके अपने हिसाब से चार्ट सिलेक्ट करना है। ज्यादातर ट्रेडर्स "कॅंडल स्टिक चार्ट" का इस्तेमाल करतें है। शेअर के चार्ट में व्होलॅटिलिटी कम होनी चाहिये। शेअर में रिव्हर्सल में ट्रेड लेना और नयी पोजीशन के लिये ट्रेड लेना मुमकिन होना चाहिये। याने की जिन चार्ट पर एक तरफा के अच्छे मुव्ह दिखतें है। उनमें छोटा ऑप्शन ट्रेड लें सकतें है।

4 ) चार्ट सिलेक्ट करने के बाद चार्ट पर "सपोर्ट, रेजिस्टेन्स और ट्रेन्ड लाइन" का इस्तेमाल करना, सीखना चाहिये। हमें यह सही से करना आता है। तो अब यहाँ से आगे बढ़ते है।

5 ) कंपनी के शेअर का छोटा ऑप्शन लेने के लिये उस "कंपनी का फंडामेंटल एनालिसिस" करना चाहिये। ताकि उभरते हुए ट्रेन्ड के साथ तालमेल बनाके काम किया जाये।

इन बातों का स्टडी करके हम आत्मविश्वास के साथ छोटा ऑप्शन लें सकतें है। मन में सवाल यह उठेगा की थोड़ा पैसा ही तो लगाना है इसके लिये इतना स्टडी क्यों करना है। जवाब में कहते है की स्टडी, "थोड़ा पैसा लगाने के लिये और बड़ा पैसा कमाने के लिये करना है।" यह स्टडी करके हम छोटा ही क्या बड़े से बड़ा ऑप्शन लें सकेंगे। है की नहीं? और मुझे पूरी उम्मीद है की हम मिलकर यह कर सकतें है। कुछ डिफिकल्टी आये तो कमेंट में लिखना। अभी पूरा नहीं हुआ है। आगे हमारे लिये बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध है। तो चलिये आगे बढ़ते है।

छोटे ऑप्शन्स ट्रेडिंग की स्टाइल

स्टाइल याने की "काम करने का तरीका।" अपनी चाहत के अनुसार हम शेअर या इंडेक्स का चुनाव करतें है। उसके बारें में सारा स्टडी करतें है। और अपनी एक खास स्टाइल बनातें है। यहाँ पर एक स्टाइल दी गयी है। जिसके जरिए हम, फियर और ग्रीड को कंट्रोल करके ट्रेडिंग कर सकतें है।

GeWorko विधि - पोर्टफोलियो ट्रेडिंग

Dow Theory के चौथे बुनियादी सिद्धांत: निवेशक की सेवा

मूल्य चार्ट का क्लासिक विश्लेषण इंट्रा डे ट्रेडिंग का अनिवार्य हिस्सा है । यहां तक कि बुनियादी निवेशकों को जो कई महीनों और वर्षों की समय सीमा की जांच अपने.

Portfolio spread based on continuous futures

In this overview we would like to present the opportunity of creating personal composite instruments, and also the methods of predicting their fluctuations on the basis of technical analysis. Here we consider four CFDs: wheat, cotton, frozen beef and Dow Jones Industrial Index (DJI). We will create the following personal composite instrument PCI GeWorko: portfolio [wheat + cotton] quoted against portfolio.

शार्प पोर्टफोलियो - "थे थ्री लीडर्स"

हमें पोर्टफोलियो सिद्धांत के आवेदन पर विचार करें कम्पोजिट उपकरणों बनाने के द्वारा। इस अनुच्छेद में, हम दिखा देंगे कि कैसे पोर्टफोलियो ट्रेडिंग, PCI पोर्टफोलियो.

Portfolio Quoting Method for Analysis of "Good" and "Bad" Portfolios

The global financial crisis of 2008 affected all sectors of economic activity with no exception. It affected the business performance of companies both directly and indirectly, but the level of impact was different. This fact provides broad opportunities to find investment strategies based on differences in the long-term price reaction of, for instance, stocks on the same systematic factor.

Portfolio Optimization through PQM Method (Part 2)

Suppose that an investor is really ready to accept a higher risk level for increasing the expected return of the portfolio. Let the maximum acceptable standard deviation of the return इंट्रा डे ट्रेडिंग के लिए स्टॉक्स कैसे चुनें? of the portfolio be 2.5%. We will carry out the optimization procedure of weight coefficients for searching for the maximum return of the portfolio with an additional restriction on the standard deviation (it should not.

Portfolio Optimization through PQM Method (Part 1)

Searching for an optimal structure of assets in a portfolio is, by all means, not a simple issue. On the one hand, much depends on the parameters of the assets, included in the portfolio and on the other hand, on investor’s individual preferences and restrictions. However, modern financial theory and new analysis and trading methods considerably simplify that process.
Portfolio Quoting method can.

Stock Portfolio Construction | Stock Portfolio Analysis - Pportfolio Quoting Method PQM

Pportfolio Quoting method allows you to construct any combination of assets from a set of available instruments. In this article we would like to draw attention to the U.S. stock market, choose a few securities, build a chart of the resulting portfolio and analyze its behavior over several recent years.
As known, the financial crisis that erupted in 2008, has led to serious consequences for the global.

Risk Diversification | Risk Reduction - Portfolio Quoting Method

Modern portfolio theory suggests significant benefits from diversification. Using Portfolio Quoting Method toolset we would like to show how exactly an investor benefits from diversification. For this example we have chosen two well-known securities included in the index Dow Jones Industrial Average.

निफ्टी क्या है nifty 50 कैसे खरीदे

निफ्टी क्या है nifty 50 कैसे खरीदे

निफ्टी क्या है nifty 50 की जानकारी निफ्टी किसे कहते हैं निफ्टी के बारे में जानकारी हिंदी में निफ़्टी कैसे खरीदें नेशनल स्टॉक एक्सचेंज NSE के सूचकांक को निफ्टी कहते हैं NSE में लिस्टेड शीर्ष 50 शेयरों में खरीदारी बिकवाली से जो एवरेज आता है उसी को nifty 50 कहते हैं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में हजारों की संख्या में शेयर लिस्टेड है किंतु शीर्ष 50 अलग-अलग सेक्टर की कंपनियों के शेयरों पर निफ़्टी 50 का भाव निर्धारित करता है

रेटिंग: 4.45
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 264
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *