रणनीति चुनना

Bitcoin क्या है

Bitcoin क्या है
Mutual fund investments are subject to market risks. Please read the scheme information and other related documents carefully before investing. Past performance is not indicative of future returns. Please consider your specific investment requirements before choosing a fund, or designing a portfolio that suits your needs.

भास्कर एक्सप्लेनर: फूट गया बिटकॉइन का बुलबुला! क्या क्रिप्टो में निवेश करने का यही सही समय है? जानिए कैसे काम करती है क्रिप्टो करेंसी

अमेरिका, यूके के बाद चीन ने क्रिप्टो करेंसी के खिलाफ कदम उठाना शुरू किया, तो बिटकॉइन का बुलबुला ही फूट गया। अप्रैल में 50 लाख रुपए तक पहुंचा बिटकॉइन पिछले दो दिन में 25 लाख के आसपास रह गया है। क्रिप्टो की अन्य करेंसी भी इस दौरान ढह गई। निवेशकों को दो महीने में 50% तक का नुकसान हुआ है।

भारत में क्रिप्टो करेंसी कानूनी तौर पर मान्य नहीं है। इसके बाद भी इसका लेन-देन हो रहा है। इस पर किसी तरह की पाबंदी नहीं है। क्रिप्टो एक्सचेंज इसे एक एसेट क्लास के तौर पर मान्यता देने की मांग कर रहे हैं। ताकि निवेशकों के लिए एक और साधन मिल सके। भारत में क्रिप्टो करेंसी का 1000-1500 करोड़ रुपए का डेली टर्नओवर है। भले ही स्टॉक एक्सचेंज के 2 लाख करोड़ रुपए के डेली वॉल्यूम के मुकाबले यह 1% से भी कम है, इसमें 1 करोड़ से अधिक भारतीय ट्रेड और इन्वेस्ट कर रहे हैं। इसके बाद भी ज्यादातर लोगों के लिए क्रिप्टो करेंसी के बारे में जानना और उसे समझना एक मुश्किल काम है।

हमने उनोकॉइन के सह-संस्थापक और सीईओ सात्विक विश्वनाथ से बात की, ताकि आपको क्रिप्टो कॉइन को लेकर हो रहे डेवलपमेंट्स के बारे में जानकारी दी जा सके…

आखिर यह क्रिप्टो करेंसी है क्या?

  • यह आपके रुपए, डॉलर, येन या पाउंड जैसी ही करेंसी है। पर यह डिजिटल यानी वर्चुअल है। क्रिप्टोग्राफी के सिद्धांत पर काम करती ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी से ही यह वर्चुअल करेंसी बनी है। इसी वजह से इसे क्रिप्टोकरेंसी कहते हैं।
  • जब आप रुपए, डॉलर, येन या पाउंड की बात करते हैं तो उस पर उसे जारी करने वाले देश के केंद्रीय बैंक का नियंत्रण होता है। यह करेंसी कितनी और कब छपेगी, वह यह देश की आर्थिक परिस्थिति को देखकर तय करते हैं। पर क्रिप्टोकरेंसी पर किसी का कंट्रोल नहीं है, यह पूरी तरह से डिसेंट्रलाइज्ड व्यवस्था है। कोई भी सरकार या कंपनी इस पर नियंत्रण नहीं कर सकती। इसी वजह से इसमें अस्थिरता भी है। यह डिस्ट्रिब्यूटेड सिस्टम पर काम करती है, जिसे न तो कोई हैक कर सकता है और न ही किसी तरह की छेड़छाड़।

क्या यह निवेश के लिए सुरक्षित और पारदर्शी प्लेटफॉर्म है?

  • हां। ब्लॉकचेन सबसे सुरक्षित और सबसे पारदर्शी फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी है। लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन 2008 की आर्थिक मंदी के बाद तेजी से आगे बढ़ी। तब से अब तक एक सिक्के की कीमत में 90 लाख प्रतिशत की उछाल है।
  • पर इसके साथ दिक्कत यह है कि यह बेहद अस्थिर है। अचानक ऊपर जाती है और धड़ाम से गिर भी जाती है। इस वजह से रिस्क बहुत है। 12 साल में इसने बहुत उतार-चढ़ाव देखा है। करीब 400 बार तो इसके खत्म होने की घोषणा तक हो गई होगी। इस समय भी ऐसा ही माहौल है। दुनियाभर में ज्यादातर सरकारें क्रिप्टो करेंसी को स्वीकार करने में हिचक रही हैं। इससे पहले दिसंबर 2020 में भी सभी क्रिप्टो करेंसी रसातल में पहुंच गई थी। अब एनालिस्ट कह रहे हैं कि बिटकॉइन फिर उठेगी।

दुनियाभर में क्रिप्टो करेंसी को किस तरह लिया जा रहा है?

  • इसे लेकर देशों का रिस्पॉन्स एक-सा नहीं है। मसलन, भारत और चीन जैसे देश इसका विरोध करते हैं। भारत में तो रिजर्व बैंक ने इस पर बैन लगा रखा था। पर अमेरिका समेत कई देश इसके अनुकूल स्कीम बना रहे हैं। सेंट्रल अमेरिका के अल सल्वाडोर की कांग्रेस ने 8 जून 2021 को बिटकॉइन कानून पास किया और यह छोटा देश अब बिटकॉइन को लीगल टेंडर बनाने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है।
  • अब तक अल सल्वाडोर में अमेरिकी डॉलर से ही लेन-देन होते थे। पर अब वहां डिजिटल करेंसी में भी लेन-देन हो सकेंगे। उसकी देखा-देखी, कई दक्षिण अमेरिकी और अफ्रीकी देश भी बिटकॉइन को लीगल स्टेटस देने पर विचार कर रहे हैं।
  • दक्षिण कोरिया जैसे बड़े देश भी क्रिप्टो करेंसी और एक्सचेंज को रेगुलेट करने के लिए कानूनी स्ट्रक्चर बनाने पर काम कर रहे हैं। दूसरी ओर क्रिप्टो फ्रेंडली मियामी, यूएस ने हाल ही में क्रिप्टो एनक्लेव का आयोजन किया। पूरी दुनिया में बिटकॉइन जैसी क्रिप्टो करेंसी को अपनाने के प्रयास हो रहे हैं। कुछ देशों ने बिटकॉइन या अन्य क्रिप्टो करेंसी पर आधारित म्यूचुअल फंड भी लॉन्च किए हैं।

भारत में बिटकॉइन का लीगल स्टेटस क्या है?

  • इस समय क्रिप्टो को रुपए या डॉलर जैसे लीगल मुद्रा का स्टेटस हासिल नहीं है। पर भारत में क्रिप्टो करेंसी को खरीदना और बेचना प्रतिबंधित नहीं है। रिजर्व बैंक ने 2018 में सर्कुलर जारी कर क्रिप्टो करेंसी पर पूरी तरह से बैन लगा दिया था। पर मार्च 2020 में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि रिजर्व बैंक यह साबित नहीं कर पाया कि क्रिप्टो लेनदेन की वजह से आर्थिक नुकसान हो रहा है। Bitcoin क्या है इसका दबाव बना और रिजर्व बैंक ने नया सर्कुलर जारी किया। बैंकों को ग्राहकों को क्रिप्टो लेनदेन की अनुमति देने को कहा।
  • भारत सरकार ने संकेत दिए हैं कि वह क्रिप्टो करेंसी एंड रेगुलेशन ऑफ ऑफिशियल डिजिटल करेंसी बिल 2021 संसद में पेश करने वाली है। यह प्राइवेट क्रिप्टो करेंसी पर बैन लगाएगा और सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) के तौर पर विकल्प देने का रास्ता खोलेगा। भारत में क्रिप्टो बिजनेस एनालिस्ट कहते हैं कि भले ही इस समय भारत में क्रिप्टो को लेकर विरोध हो रहा है, पर जल्द ही हालात बदलेंगे। भारत सरकार को भी देर-सवेर क्रिप्टो करेंसी टेक्नोलॉजी को स्वीकार करना होगा।

RBI का नया नोटिफिकेशन इस पर क्या कहता है?

  • रिजर्व बैंक के नए सर्कुलर में बैंकों से कहा गया है कि डिजिटल करेंसी से जुड़े लेन-देन पर रोक न लगाएं। क्रिप्टो एनालिस्ट कहते हैं कि इंडस्ट्री को रेगुलेशन की जरूरत है और रिजर्व बैंक का सर्कुलर इस दिशा में अहम कदम है।
  • रिजर्व बैंक ने क्रिप्टो करेंसी का लेन-देन करने वालों के लिए अपने कस्टमर को जानिए (KYC), मनी लॉन्डरिंग रोकने (AML), आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले अकाउंट्स पर नजर रखने के प्रावधानों पर जोर दिया है। इसके साथ ही विदेश से आने वाले धन पर फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट (FEMA) के तहत निर्धारित प्रावधानों पर नजर रखी जा रही है।
  • क्रिप्टो इन्वेस्टर कम्यूनिटी इन कदमों से उत्साहित है। उसे लग रहा है कि अल सल्वाडोर की तरह उचित रेगुलेशन भी सरकार ला सकती है।

भारत में क्रिप्टो करेंसी में इन्वेस्टमेंट कैसे कर सकते हैं?

  • पहले यह समझना होगा कि बिटकॉइन सबसे लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी है। पर उसकी तरह और भी कई क्रिप्टो करेंसी हैं, जिनका लेनदेन ऑनलाइन प्लेटफॉर्म और एक्सचेंज पर किया जा सकता है।
  • अगर आप क्रिप्टो में इन्वेस्ट करने का सोच रहे हैं तो आपको क्रिप्टो वॉलेट खोलना पड़ेगा। यह वैसा ही है, जैसा आप स्टॉक ट्रेडिंग करने के लिए डीमैट अकाउंट खोलते हैं। उनोकॉइन, वजीरएक्स जैसे प्लेटफॉर्म Bitcoin क्या है पर कोई भी क्रिप्टो वॉलेट खोल सकता है। इसके लिए KYC समेत अन्य औपचारिकताओं को पूरा करना होगा। इसके बाद आपको क्रिप्टो में इन्वेस्ट करने के लिए अपने बैंक से पैसा डिपॉजिट करना होगा। यह सरल और आसान प्रक्रिया है।
  • भारत में कुछ प्लेटफॉर्म ऐसे हैं जो 100 रुपए से वॉलेट खोलने की अनुमति देते हैं। वहीं, कुछ क्रिप्टो वॉलेट फ्री ट्रेडिंग की अनुमति देते हैं, तो कुछ इसके लिए कम से कम 100 रुपए मेंटेनेंस चार्ज वसूल सकते हैं। यह क्रिप्टो एक्सचेंज पर निर्भर करता है।
  • बिटकॉइन की हालिया गिरावट से पहले ब्लूमबर्ग इंटेलिजेंस की रिसर्च रिपोर्ट ने कहा था कि इस क्रिप्टो करेंसी का टेक्निकल आउटलुक मजबूत है। 2021 में इसकी कीमत 4 लाख डॉलर तक पहुंच सकती है।

जनवरी से अब तक भारत की प्रमुख क्रिप्टो करेंसी ने किस तरह रिटर्न दिया?

बिटकॉइन क्या है पूरी जानकारी? What is Bitcoin in Hindi? (Complete Guide)

बिटकॉइन क्या है पूरी जानकारी? What is Bitcoin in Hindi? (Complete guide)

बिटकॉइन क्या है? What is Bitcoin?

बिटकॉइन ऑनलाइन वर्चुअल करेंसी (Virtual Currency) है जिसे हम ना छु सकते हैं और ना ही अपने बटुए में भर सकते हैं। बिटकॉइन को ऑनलाइन ही उपयोग किया जा सकता है और उसको आप डॉलर या किसी अन्य करेंसी में बदलकर अपने बैंक खाते में जमा कर सकते हैं। ऑनलाइन वर्चुअल करेंसी को क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) कहा जाता है।

जुलाई 2017 के रिपोर्ट के अनुसार 900 से भी ज्यादा प्रकार के क्रिप्टोकरेंसी इंटरनेट पर मौजूद है। इनमे से कुछ मुख्य है Litecoin, Ethereum, Dogecoin, Peercoin, Primecoin, Ripple. बिटकॉइन का आविष्कार 2009 साल में सॉफ्टवेर इंजिनियर Satoshi Nakamoto ने किया था। बिटकॉइन को कोई भी सरकार या अथॉरिटी नहीं संभालते है इसलिए इसे पहला विकेंद्रीकृत डिजिटल मुद्रा(First decentralized digital currency) कहा जाता है।

बिटकॉइन काम कैसे करता है? How Bitcoin Works?

100000000(1करोड़) सतोषी Satoshi को मिलाकर 1 बिटकॉइन बनता है। बिटकॉइन को आप खरीद सकते हैं, ट्रेड कर सकते हैं, बिटकॉइन माइंन कर सकते हैं, किसी सामान के बदले बिटकॉइन ले सकते हैं, या फिर आप चाहे तो बिटकॉइन को बेच भी सकते हैं। आप अपने बिटकॉइन को अपने ऑनलाइन बिटकॉइन वॉलेट (Bitcoin Wallet) में रख सकते हैं। ना सिर्फ बिटकॉइन को बल्कि अन्य सभी क्रिप्टोकरेंसी को अपने ऑनलाइन वॉलेट में आप रख सकते हैं।

जिन शॉपिंग वेबसाइट पर बिटकॉइन ट्रांजैक्शन की सुविधा हो उन वेबसाइट पर आप बिटकॉइन से सामान खरीद सकते हैं। या फिर आप चाहे तो स्वयं का कोई सामान बिटकॉइन के बदले बेच सकते हैं।

यह सब एक ब्लॉकचेन नेटवर्क(Blockchain Network) पर काम करता है जिसमें माइनिंग करने वाले को Bitcoin Blocks Solve करना होता है। एक ब्लॉक को सॉल्व करने के लिए 10 मिनट का समय दिया जाता है और 2,16,000 ब्लॉक को सॉल्व करने के लिए लगभग 4 साल लग जाते हैं।

बिटकॉइन 3 लोगों के द्वारा काम करता है। पहला व्यक्ति बिटकॉइन खरीदता है और दूसरा व्यक्ति बिटकॉइन भेजता है और तीसरा व्यक्ति वह होता है जो बिटकॉइन माइनिंग के द्वारा उन पहले दो व्यक्तियों के लेन देन के अधूरे (Unverified Transaction) को बिटकॉइन माइनिंग के द्वारा पूरा करता है।

बिटकॉइन माइनिंग क्या होता है? What is Bitcoin Mining?

दुनियाभर के लोग बिटकॉइन एक दूसरे को भेजते हैं जो की एक ट्रांजेक्शन के माध्यम से पूरा होता है। परंतु यह ऑनलाइन ट्रांजैक्शन अपने आप पूरा नहीं होता है जैसा की एक साधारण बैंक के ट्रांजैक्शन में होता है। इन अधूरे ट्रांजैक्शन को ब्लॉक्स(Blocks) कहते हैं। बिटकॉइन या क्रिप्टोकरेंसी के ट्रांजैक्शन पुरे तब होते हैं जब कोई दूसरा User बिटकॉइन माइनिंग करके इन Blocks को Solve करता है।

जब कोई User अपने कंप्यूटर और हार्डवेयर इक्विपमेंट(Hardware equipment) जैसे बिटकॉइन माइनर (Bitcoin Miner) की मदद से बिटकॉइन माइन करता है तब बिटकॉइन के ट्रांजैक्शन पूरे हो होते हैं। इसमें बिटकॉइन माइंन करने वाले व्यक्ति को उस ट्रांजैक्शन को पूरा करने के लिए कुछ Cryptocurrency प्राप्त होती है जो वह व्यक्ति अपने Bitcoin Mining Pool के Server से अपने बिटकॉइन वॉलेट(Bitcoin Wallet) पर प्राप्त करता है।

बिटकॉइन से पैसे कैसे कमाएं? How to Make Money with Bitcoin?

आज के दिन में लाखों ऐसे Online Uses हैं जो जो बिटकॉइन के माध्यम से पैसे कमा रहे हैं। बिटकॉइन की मदद से ऑनलाइन कई प्रकार से पैसे कमाए जा सकते हैं जैसे –

बिटकॉइन ट्रेडिंग Bitcoin Trading

बिटकॉइन ट्रेडिंग लगभग स्टॉक मार्केट के जैसे ही काम करता है। इसमें आपको किसी बिटकॉइन प्रदान करने वाली कंपनी से बिटकॉइन खरीदना पड़ता है और उसे आप चाहे तो एक स्टॉक की तरह ही अपने बिटकॉइन वॉलेट पर रख सकते हैं। जब बिटकॉइन का दाम बढ़ जाएगा तो आप चाहे तो उसे बेच सकते हैं।

बिटकॉइन माइनिंग Bitcoin Mining

बिटकॉइन माइनिंग आप दो प्रकार से कर सकते हैं- बिटकॉइन क्लाउड माइनिंग और बिटकॉइन हार्डवेयर महीने के द्वारा।

बिटकॉइन क्लाउड माइनिंग क्या होता है? Bitcoin Cloud Mining

इंटरनेट पर ऐसी बहुत सारी वेबसाइट हैं जो क्लाउड माइनिंग की सुविधा प्रदान करते हैं। आप उन वेबसाइट पर कुछ पैसे इन्वेस्ट करके बिटकॉइन माइंन करवा सकते हैं। उन वेबसाइट पर आपको MH/s, GH/s, TH/s की स्पीड मिलती है जो बिटकॉइन माइन करते हैं और माइन करने के बाद आपके ऑनलाइन वॉलेट में बिटकॉइन जमा हो जाते हैं।

बिटकॉइन हार्डवेयर माइनिंग क्या होता है? Bitcoin Hardware Mining

इसको हार्डवेयर माइनिंग इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसमें बिटकॉइन माइनिंग करने के लिए आपको हार्डवेयर की जरूरत पड़ती है जिसे हम बिटकॉइन माइनर कहते हैं। इसके लिए आपको बिटकॉइन माइनर खरीदना पड़ता है जिसे आपको बिटकॉइन माइनिंग पूल के साथ कनेक्ट करके आप बिटकॉइन माइन कर सकते हैं। अगर आपके पास इन्वेस्ट करने के लिए कुछ पैसे हैं तो बिटकॉइन माइनर खरीदना आपके लिए लाभदायक हो सकता है क्योंकि आप घर बैठे इससे लाखों रुपए कमा सकते हैं।

बिटकॉइन माइनर कहां से खरीदें? How to Buy Bitcoin Miner?

आज के दिन में जो सबसे बेहतरीन बिटकॉइन माइनर है वह है Bitman का Antminer s9 जिसकी स्पीड लगभग 11-13 TH/s है।

क्या है Private Cryptocurrency जो बैन होगी, क्या बिटकॉइन इसमें शामिल है?

जीकैश, मोनेरो, डैश प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसी के कुछ उदाहरण है.

क्या है Private Cryptocurrency जो बैन होगी, क्या बिटकॉइन इसमें शामिल है?

क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) पर सरकार द्वारा बिल लाने की घोषणा के बाद हाय तौबा मच गई है. अब जब भारतीयों के हजार-करोड़ों रुपए क्रिप्टो के बाजार में लगे हो तो हाय तौबा मची रहेगी. इसका असर ये हुआ कि एक तो मार्केट धड़ाम से गिर गया दूसरी तरफ पैनिक सेलिंग को बढ़ावा मिला. लेकिन सरकार द्वारा बिल की घोषणा पर नजर डालें तो वहां प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसी को बैन करने की बात हो रही है.

अब ये प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसी क्या है और ये बिटकॉइन, ईथीरियम या डॉजकॉइन भी प्राइवेट क्रिप्टो हैं.

क्रिप्टोकरेंसी क्या है?

क्रिप्टोकरेंसी एक वर्चुअल करेंसी है, इसके साथ कुछ वैल्यू भी जुड़ी होती है. ये एक ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर काम करती है. ये किसी बैंक ना मिलने की बजाय कंप्यूटर्स द्वारा माइन होती है. हालांकि इनके ट्रांजैक्शन को ट्रैक किया जा सकता है, लेकिन सीमित जानकारियों के साथ.

अब भारत समेत दुनिया के कई देश में ना तो इसको लेकर कोई कानून है ना ही इसे सरकार मान्यता देती है. इसलिए भारत सरकार अब इस पर एक बिल लेकर आएगी ताकि कुछ कानून बनाएं जा सके.

क्रिप्टोकरेंसी के ट्रांजेक्शन को ट्रैक करना काफी जटिल है और सरकार का मानना है कि इसका बड़े स्तर पर दुरुपयोग हो सकता है. या तो इसको हवाला फंडिंग या टेरर फंडिंग के उपयोग में लाया जा सकता है. इसलिए इसको या तो बैन करने की जरूरत है या फिर रेग्युलेट करने की.

प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसी क्या होती है?

प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसी प्राइवेट ब्लॉकचेन के सहारे ट्रांजेक्ट होती है. इसको ट्रेस करना लगभग नामुमकिन हो जाता है. आमतौर पर इसकी परिभाषा भी यही है. जीकैश, मोनेरो, डैश प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसी के कुछ उदाहरण है. वहीं बिटकॉइन, डॉजकॉइन, ईथीरियम ये सब पब्लिक क्रिप्टोकरेंसी हैं जिनके ट्रांजेक्शन को ट्रेस किया जा सकता है.

पेंच ये है कि प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसी की कोई फिक्स परिभाषा तय नहीं हो पाई है. भारत सरकार प्राइवेट क्रिप्टो को किस तरह से परिभाषित करेगी ये बिल पेश पेश होने के बाद ही साफ हो पाएगा.

अब ऐसा हो सकता है कि सरकार उन सभी क्रिप्टोकरेंसी को प्राइवेट माने जो सरकार द्वारा जारी नहीं की गई है. या ऐसा भी हो सकता है कि जिन क्रिप्टोकरेंसी के ट्राजेक्शन की पहचान ना की जा सकती हो उनको सरकार प्राइवेट माने.

अब चूंकी सरकार अपनी एक डीजिटल करेंसी ला रही है इसलिए ऐसा माना जा रहा है कि हर तरह की क्रिप्टोकरेंसी पर बैन लगा दिया जाएगा लेकिन कुछ अपवाद के साथ.

Cryptocurrency Bill की खबर के बाद पैनिक सेलिंग,क्या कह रहे एक्सपर्ट?

Cryptocurrency Bill की खबर के बाद पैनिक सेलिंग,क्या कह रहे एक्सपर्ट?

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Bitcoin Bitcoin क्या है क्या है ? इसका फ्यूचर क्या होगा जरुर जाने

bitcoin kya hai

1 Bitcoin is equal to 8,43,931.82 INR होता है अब आप कहेंगे बाप रे इतना ज्यादा वैल्यू? आखिर ये Bitcoin Kya Hai? ये क्या चीज है जो इतना वैल्यू रखता है और इसका फ्यूचर क्या है in सभी सवालों का जबाब आपको इस पोस्ट में डिटेल्स में मिलेगा इसलिए ध्यान से इसे पढियेगा|

1 bitcoin equal to INR

दोस्तों, आप तो अच्छे से जान रहे है की दुनिया डिजिटल हो चूका है और रोज न्यू न्यू चीज आ रहे है ऐसे में आपके लिए जरूरी है की आने वाले समय में अपना करेंसी या दुनिया का करेंसी का क्या होने वाला है ?

Bitcoin क्या है ?

Bitcoin एक क्रिप्टो करेंसी है जो की एक डिजिटल form में रहता है इस करेंसी की लेन देन blockchain के माध्यम से होता है , जैसे अपने देश का करेंसी रुपया है और USA की करेंसी USD है उसी तरह से ग्लोबल डिजिटल करेंसी का नाम Bitcoin दिया क्या है

bitcoin kya hai

Bitcoin का इन्वेंशन 2008 में किसी अनजान आदमी या यूँ कहे तो जी ग्रुप ने मिलकर किया उसने खुद का नाम सातोशी नकामोतो रखा

आप सोच रहे होंगे की आप अपने बैंक में जो पैसा रखे हुए है वो भी तो डिजिटल form में ही क्योकि आप ऑनलाइन मोबाइल से एक अकाउंट में दुसरे अकाउंट में ट्रान्सफर कर सकते है तो ये भी तो डिजिटल करेंसी हो गया लेकिन अपने बैंक में रखे पैसे और Bitcoin में एक अंतर है वो है मैनेजिंग सिस्टम

अपने बैंक में रख पैसा चाहे अपने देश का हो या USA के बैंक में रखा USD हो ये सब के सब सेंट्रल बैंकिंग सिस्टम से कण्ट्रोल होता है मतलब की इन सब करेंसी को कोई देश का हेड मतलब बैंकिंग हेड कण्ट्रोल करता है जबकि bitcoin एक decentralized system पर आधारित करेंसी है जिसे कोई एक सिस्टम कण्ट्रोल नही करेगा क्योकि ये blockchain टेक्नोलॉजी पर आधारित काम करता है |

अब आप सोचते होंगे की जब ये एक करेंसी है तो हर आदमी का एक अकाउंट भी होना चाहिए ताकि जिसके पास ये करेंसी रहेगा वो उसी अकाउंट में रखेगा जैसे अपना पैसा अपने बैंक अकाउंट में रहता है वैसे ही ये bitcoin किसमे रखेंगे?

Bitcoin Account कैसे बनाये ?

Bitcoin अकाउंट यूँ कहूँ की अगर आप ये जानना चाहते है की bitcoin address kaise banaye तो ये जानकारी भी दूंगा लेकिन इससे पहले आपको ये तो पता होना चाहिए की आखिर ये bitcoin address क्या होता है ?

bitcoin account kaise banaye

देखिये जैसे आप अपने बैंक में जा कर बैंक अकाउंट open करते है तो आपको एक अकाउंट नंबर दिया जाता है वो अकाउंट नुबेर 10 डिजिट से भी ऊपर हो सकता है और उसके साथ IFSC कोड इस तरह से कुछ नंबर दिया जाता है ताकि उसी नंबर जिसे बैंक अकाउंट नंबर कहते है उसी में पैसा जमा भी होगा और उसी से पैसे का लेन देन भी होगा

उसी तरह से bitcoin जैसे cryptocurrency की दुनिया में भी Bitcoin क्या है एक address होता है और उसी address में bitcoin जमा होता है और उसी से लेन देन होता है

ऐसे में अब आप सोच रहे होंगे की सबसे पहले तो ये address बनाना जरूरी है ताकि जब भी लेन देन करेंगे इसी address में तो भेजेंगे, इसलिए आज आपको एक तरीका बताता हूँ की आखिर आप bitcoin address कैसे बनाये

  • अगर आप इंडिया में है तो आप zebpay के website या app open करे
  • इसके बाद अपना मोबाइल नंबर से Bitcoin क्या है रजिस्टर करे
  • इसके बाद सभी तरह से वेरीफाई और kyc करे
  • जब kyc complete हो जायेगा तो zebpay के app में आपको bitcoinबित्कोइन के सेक्शन में जाना होगा
  • जब bitcoinबित्कोइन्के सेक्शन में जायेंगे तो आपको bitcoin address दिखेगा

bitcoin zebpay earning

आप सोच रहे होंगे की आखिर zebpay ही क्यों तो इसका जबाब है की आप इंडिया में रह रहे है तो ऐसे में हो सकता है की आप कुछ bitcoinबित्कोइन खरीदना या बेचना चाहते होंगे और अगर आप खरीदना चाहते है तो पहले से आपके पास INR मतलब Indian Rupees होगा आपके बैंक अकाउंट में तो आखिर कोई न कोई marketplace होना चाहिए जहाँ से खरीदा जा सके या अगर आप पास पहले से किसी address में bitcoin है तो अपने न्यू address पर ट्रान्सफर करके इसके बाद उसे zebpay पर sell करके उसी पैसे को अपने बैंक अकाउंट में INR में ट्रान्सफर कर सकते है

Bitcoin का फ्यूचर क्या है ?

दुसरे देश की बात अलग है लेकिन अगर अपने इंडिया की बात करे तो पहले इसको ban किया गया इसके बाद फिर ban हटा लिया गया है अभी मतलब इस पोस्ट को लिखते समय (4 अगस्त 2020) अपने देश में bitcoin transaction करना कोई गलत बात नही है

लेकिन अगर कुछ दिन पहले का ट्विटर bitcoinबित्कोइन scam के बारे में सुने होंगे जिसमे की बड़े बड़े बिज़नस owner जैसे billgates elon musk etc के ट्विटर अकाउंट पर एक address दिया गया जहा पर bitcoin accept किया गया और कुछ illegal transaction भी होने के चांस है क्योकि इसको ट्रैक करना बहुत कठिन हो जाता है

लेकिन अगर इंडिया की बात करे तो bitcoin से rupees और rupees to bitcoin के लिए जिस भी platform का इस्तेमाल होगा और उस platform से जो address create होगा उसके लिए full KYC होना जरूरी है ताकि ट्रैक किया जा सके

लेकिन सवाल ये है की जब बाद में rupees में कोई लेन देन नही करेगा तो ऐसे में illegal एक्टिविटी बहुत हो जायेगा इसलिए ऐसे में कोई भी सरकार अपना कण्ट्रोल खोना नही चाहेगा

इसलिए bitcoinबित्कोइन ट्रेडिंग करना थोडा रिस्की हो सकता है इसलिए मेरा पर्सनल सलाह मानेंगे तो आप उसी पैसे से bitcoinबित्कोइन खरीदे जिस पैसे को अगर खो भी देंगे तो आपको तकलीफ नही होगी उतना ही पैसा लगाये इसमें |

वैसे बहुत सारी बात है जिसके बारे में अगले पोस्ट में लिखूंगा लेकिन ये तभी लिखूंगा जब आप निचे कमेंट सेक्शन में कमेंट करके आगे की बात लिखने को कहेंगे

वैसे अभी जो जानकारी bitcoin क्या है और इसका फ्यूचर क्या है वो बताया हूँ जरुर पसंद आया होगा|

Bitcoin

बिटकॉइन 2009 में बनाई गई एक डिजिटल मुद्रा है। यह ऑनलाइन और ईंट-और-मोर्टार खरीद के लिए उपयोग किए जाने वाले संसाधित डेटा ब्लॉक से बना एक डिजिटल क्रिप्टोकुरेंसी है। बिटकॉइन पारंपरिक ऑनलाइन भुगतान तंत्र की तुलना में कम लेनदेन शुल्क का वादा करता है और सरकार द्वारा जारी मुद्राओं के विपरीत, एक विकेन्द्रीकृत प्राधिकरण द्वारा संचालित होता है। क्योंकि बिटकॉइन सीमित हैं और उनका मूल्य किसके द्वारा निर्धारित किया जाता हैमंडी बलों, बिटकॉइन का भी विभिन्न एक्सचेंजों पर स्टॉक की तरह कारोबार किया जाता है।

Bitcoin

बिटकॉइन किसी भी बैंक या सरकार द्वारा जारी या समर्थित नहीं हैं, न ही व्यक्तिगत बिटकॉइन एक वस्तु के रूप में मूल्यवान हैं। कोई भौतिक बिटकॉइन नहीं हैं, केवल क्लाउड में एक सार्वजनिक खाता बही पर रखा गया शेष है, जो कि सभी बिटकॉइन लेनदेन के साथ-साथ कंप्यूटिंग शक्ति की एक बड़ी मात्रा द्वारा सत्यापित है।

बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया?

सातोशी नाकामोतो उस व्यक्ति या लोगों के समूह से जुड़ा नाम है, जिन्होंने 2008 में मूल बिटकॉइन श्वेत पत्र जारी किया था और 2009 में जारी किए गए मूल बिटकॉइन सॉफ़्टवेयर पर काम किया था।

बिटकॉइन कैसे काम करता है?

बिटकॉइन ब्लॉकचेन तकनीक पर काम करता है। ब्लॉकचेन एक साझा सार्वजनिक खाता बही है जिस पर संपूर्ण बिटकॉइन नेटवर्क निर्भर करता है। किसी भी पुष्टि किए गए लेनदेन को ब्लॉकचेन में जोड़ा जाता है। जब कोई उपयोगकर्ता एक नया लेनदेन शुरू करता है, तो लेनदेन को ब्लॉकचेन का उपयोग करके सत्यापित किया जाता है।

एक बार जब आप बिटकॉइन के मालिक हो जाते हैं, तो उनके पास मूल्य और व्यापार होता है। आप अपने बिटकॉइन का उपयोग सामान और सेवाओं को ऑनलाइन खरीदने के लिए कर सकते हैं, या आप उन्हें दूर रख सकते हैं और आशा करते हैं कि उनका मूल्य वर्षों में बढ़ जाएगा।

In modern era bitcoin would be a people's global choice- not for the government currency.

Nice post dear, I have been surfing online more than 3 hours today, yet I never found any interesting article like yours. It is pretty worth enough for me. In my view, if all web owners and bloggers made good content as you did, the internet will be

Get it on Google Play

AMFI Registration No. 112358 | CIN: U74999MH2016PTC282153

Mutual fund investments are subject to market risks. Please read the scheme information and other related documents carefully before investing. Past performance is not indicative of future returns. Please consider your specific investment requirements before choosing a fund, or designing a portfolio that suits your needs.

Shepard Technologies Pvt. Ltd. (with ARN code 112358) makes no warranties or representations, express or implied, on products offered through the platform. It accepts no liability for any damages or losses, however caused, in connection with the use of, or on the reliance of its product or related services. Terms and conditions of the website are applicable.

रेटिंग: 4.39
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 866
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *