फोरेक्स में व्यापार

एथेरियम क्या है

एथेरियम क्या है

Cryptoverse: Merge के बाद Ether के सिस्टम में दूसरे बड़े बदलाव की तैयारी, लेन-देन पर खर्चा हो जाएगा कम

'मर्ज' के बाद एथेरियम के सिस्टम में और भी बड़े बदलाव कतार में हैं जिससे क्रिप्टोकरेंसी के लेन-देन में फीस का खर्च घट जाएगा

Cryptoverse: मार्केट कैप के हिसाब से दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी एथर ने कुछ दिनों पहले अपना सिस्टम अपग्रेड किया था। एथेरियम के ब्लॉकचेन सिस्टम में यह अब तक का सबसे बड़ा बदलाव था और इसे मर्ज (Merge) नाम दिया गया। अब एथेरियम अपने अगले बड़े अपग्रेड की तरफ बढ़ रहा है, शंघाई (Shanghai)। मार्केट पार्टिसिपेंट्स का मानना है कि इसे छह महीने में लाया जा सकता है।

Merge के बाद Shanghai में क्या है खास

संबंधित खबरें

Zomato के को-फाउंडर मोहित गुप्ता ने दिया इस्तीफा, 2 हफ्तों में कंपनी में तीसरा बड़ा इस्तीफा

RBI ने सितंबर में 10 अरब डॉलर के विदेशी करेंसी बेचे, अगस्त से 144% अधिक

RBI Bulletin: इनफ्लेशन में नरमी, इकोनॉमी में सुधार, लेकिन वैश्विक स्थितियां अब भी अनिश्चित बनी हुई हैं

'मर्ज' का उद्देश्य एथेरियम में बिजली की खपत को कम करना था और एथेरियम के दावे के मुताबिक इसमें बिजली की खपत 99 फीसदी कम होगी। अब इसके बाद एथेरियम जिस अपग्रेड शंघाई की तरफ बढ़ रहा है, उसका उद्देश्य हाई ट्रांजैक्शन कॉस्ट को कम करना है। इसका मतलब हुआ कि मर्ज और शंघाई मिलकर बिजली की खपत को भी कम करेंगे और ट्रांजैक्शन पर खर्च भी कम होगा।

शंघाई के लाइव होने के बाद वैलिडेटर्स ब्लॉकचेन पर जमा किए हुए एथर (Ether) को निकाल सकेंगे। अभी शंघाई के लाइव होने तक इन पर लॉक लगा हुआ है। ग्लासनोड के डेटा के मुताबिक 2 हजार करोड़ डॉलर से अधिक का एथर लॉक पड़ा हुआ है।

'शंघाई' के बाद एथेरियम के लिए ये है योजना

एथेरियम की योजना शंघाई के बाद और अपग्रेड की है। एथेरियम के फाउंडर विटालिक ब्यूटेरिन (Vitalik Buterin) ने इसे 'द सर्ज', 'वर्ज', 'पर्ज' और 'स्पलर्ज' नाम दिया है। इन सभी अपग्रेड को लेकर ब्लॉकचेन का उद्देश्य ट्रांजैक्शन की क्षमता को अधिक से अधिक बढ़ाना है।

'मर्ज' में क्या हुआ है बदलाव

कुछ दिनों पहले एथेरियम के सिस्टम में बड़ा बदलाव हुआ था जिसे मर्ज नाम दिया गया। पहले ब्लॉकचेन को वैलिडेट करने के लिए प्रूफ ऑफ वर्क सिस्टम (Pow) का इस्तेमाल होता था और अब इसकी जगह प्रूफ ऑफ स्टेक (PoS) का इस्तेमाल होने लगा। नए सिस्टम के तहत बिजली की खपत 99 फीसदी कम हो जाती है यानी कि जहां पहले 100 यूनिट बिजली खर्च होती थी, वहाीं अब किसी वैलिडेट करने की प्रक्रिया में महज 1 यूनिट बिजली खर्च होगी। पूरी डिटेल्स यहां पढ़ें-

जानिए क्या है प्राइवेट Cryptocurrency, जिस पर बैन लगाने जा रही है केंद्र सरकार, ये है प्रमुख बातें

जानिए क्या है प्राइवेट Cryptocurrency, जिस पर बैन लगाने जा रही है केंद्र सरकार, ये है प्रमुख बातें

Ban on Private Cryptocurrency । भारत सरकार जल्द ही प्राइवेट Cryptocurrency पर बैन लगाने के लिए कानून लाएगी। इस संबंध में संसद में एक विधेयक पेश करने की तैयारी चल रही है। केंद्र सरकार द्वारा विधेयक लाने की घोषणा के बाद क्रिप्टो मार्केट में हलचल बढ़ गई है और अचानक ही Cryptocurrency मार्केट धराशायी हो गया है। क्रिप्टो करेंसी मार्केट में 15 से 20 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। गौरतलब है कि Cryptocurrency बिटकॉइन में 17 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है, वहीं एथेरियम में लगभग 15 प्रतिशत और टीथर में लगभग 18 प्रतिशत की गिरावट आई है।

प्राइवेट Cryptocurrency बिल संसद के शीतकालीन सत्र में ही लाया जाएगा। सदन की कार्यवाही पर आधिकारिक दस्तावेज में जानकारी दी गई है कि डिजिटल मुद्रा विधेयक, 2021 का क्रिप्टोकरेंसी और विनियमन, आगामी शीतकालीन सत्र में संसद में पेश किया जाना है। गौरतलब है कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरू होने वाला है।

Home Remedies: जानिए पारिवारिक कलह दूर करने के आसान घरेलू उपाय

विधेयक में यह प्रावधान किया गया है कि निजी Cryptocurrency पर भारत में पूरी तरह से बैन लगाया जाएगा। सरकारी सूत्रों के मुताबिक आरबीआई खुद जल्द ही अपनी डिजिटल करेंसी जारी करेगा। डिजिटल करेंसी का निजी हाथों में होना निवेशकों के लिए घातक हो सकता है इसलिए सरकार Cryptocurrency पर आरबीआई का नियंत्रण चाहती है। इससे पहले भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) और भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने भी कमजोर खुदरा निवेशकों को ध्यान में रखते हुए भारत में क्रिप्टोकरेंसी के अनियंत्रित विकास के बारे में चिंता जताई थी।

गौरतलब है कि बीते कुछ सालों में Cryptocurrency में तेजी से निवेश बढ़ा है। हालांकि अभी तक सिर्फ एक देश साल्वाडोर ने ही डिजिटल करेंसी को मान्यता दी है। Cryptocurrency में बिटकॉइन के अलावा भी कई प्राइवेट डिजिटल करेंसी चलन में है, लेकिन साल्वाडोर के अलावा दुनिया के किसी भी देश ने Cryptocurrency को मान्यता नहीं दी है।

Inflation Rate: अक्टूबर में सस्ती हुईं खाने-पीने की चीजें, 19 महीने में सबसे कम रही थोक महंगाई दर

सरकार क्रिप्टोकरेंसी के नियमन के लिए जो बिल ला रही है उसका नाम है- क्रिप्टोकरेंसी और आधिकारिक डिजिटल मुद्रा विनियमन विधेयक 2021 (Cryptocurrency and Regulation of Official Digital Currency Bill, 2021)। इस विधेयक के जरिए केंद्र सरकार एक आधिकारिक क्रिप्टो करेंसी जारी कर पाएगी और इस विधेयक के जरिए सभी प्राइवेट क्रिप्टो करेंसी बैन हो जाएंगी।

Petrol Diesel Price Today: पेट्रोल-डीजल की नई कीमतें जारी, चेक करें लेटेस्ट रेट्स

Cryptocurrency भले ही अभी ज्यादा चर्चा में रहती है लेकिन इसके बारे में लोगों ने 90 के दशक में ही सोचना शुरू कर दिया था। 90 के दशक में जब तकनीकी क्रांति होने लगी थी तो शुरुआती दौर में फ्लूज़, बींज़ व दीजिकेश ने डिजिटल करंसी के रूप में पैर पसारने के बारे में प्रयास किया था लेकिन सफलता नहीं मिली थी। दरअसल शुरुआत में लोग इस डिजिटल करेंसी पर विश्वास नहीं कर पाए थे। इसके बाद साल 2009 में एक बेनामी व्यक्ति सामने आता है, जो सातोशी नाकामोटो के उपनाम से कार्य करता था और सॉफ्टवेयर डेवलप करता था। उसी ने सबसे पहले BitCoin का विचार सबके सामने रखा।

Cryptocurrency क्या है? जानिए क्रिप्टोकरेंसी के फायदे और नुकसान

Cryptocurrency क्या है?

वर्तमान में क्रिप्टो मार्किट में लगभग 10,000 से भी अधिक क्रिप्टोकोर्रेंसी उपलब्ध है। जिनमे से ज्यादातर क्रिप्टोकोर्रेंसी को कोई नहीं जनता और जानते भी होंगे तो इनमे निवेशकों ने बहुत ही कम पैसे निवेश किये है। लेकिन इन्ही में से शीर्ष के ऐसे क्रिप्टोकोर्रेंसी है जो काफी लोकप्रिय हो चुके है। और लोग इनमे अधिक से अधिक पैसे निवेश किये है। जैसे बिटकॉइन, एथेरियम, टेथर, शीबा इनु इत्यादि।

Cryptocurrency लगभग पिछले चार-पांच सालों से देश में काफी लोकप्रिय होते जा रहा है और इसमें निवेशकों की संख्या बहुत ही तेजी से बढ़ते जा रही है। हालाँकि इसकी शुरुवात 2008 से हो चूका था। परन्तु नए लोगो के लिए Cryptocurrency को समझने में थोड़ी परेशानी तो होती ही है। जो की स्वाभाविक है। तो आइये जाने क्रिप्टोकोर्रेंसी क्या है।

Table of contents

क्रिप्टोकरेंसी क्या है? (What Is Cryptocurrency?)

क्रिप्टोकररेंसी या क्रिप्टोग्राफिक मनी एक डिजिटल प्रकार की मुद्रा है। यह कोई भौतिक धन (Physical currency ) नहीं है और न ही असल सिक्के या नोट है जिसे हम अपने पास या बैंक अकाउंट में जमा कर सकें। मतलब बिटकॉइन,एथेरियम और दूसरे क्रिप्टो करेंसी जैसे कोई भी भौतिक मुद्रा के रूप में उपलब्ध नहीं है जिसे लोग बाजार में असली पैसे के रूप में उपयोग कर सके। इसलिए यह पारम्परिक मुद्रा से बिलकुल ही अलग तरीके से संचालित होती है।

हमारे देश की करेंसी के नोट सरकार और रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के आदेश पर छापे जाते है। लेकिन क्रिप्टोकोरेंसी को अलग तरीके से बनाया और जारी किया जाता है। किसी भी क्रिप्टोकररेंसी को तकनीकी प्रक्रिया के माध्यम से प्रचलन में लाया जाता है जिसमे दुनिया भर के क्रिप्टो समुदाय के लोगो की भागीदारी शामिल होती है। यानि इसे दुनियाभर के क्रिप्टो तकनीक के जानकार लोग अपने अपने कम्पूटरो के माध्यम से तैयार करने के भागीदार होते है। वर्तमान में क्रिप्टो करेंसी प्रमुख दो प्रोटोकॉल Proof of Work और Proof of Stake पर आधारित होते है।

क्रिप्टो करेंसी पूरी तरह डिजिटल यानि सिर्फ आभाषी मुद्रा है जो ब्लॉक चैन पर संग्रहित होते है। ब्लॉकचैन पर आधारित क्रिप्टोकरेंसी की सुरक्षा बनाये रखने के लिए डाटा और सूचनाओ को एन्क्रिप्ट करने की जरुरत होती है जो क्रिप्टोग्राफ़ी प्रणाली पर चलती है। इसलिए इसे क्रिप्टोग्राफ़ी मनी भी कहते है। इसे किसी भी देश के सरकार या संस्था द्वारा नियंत्रित या संचालित नहीं किया जा सकता जिसके कारण ही इसे विकेन्द्रीकृत (decentralized) परिभाषित किया जाता है।

क्रिप्टोग्राफ़ी, क्रिप्टोकररेंसी एक्सचेंस के डिसेंट्रलाइज़्ड माध्यम के रूप में कार्य करता है जंहा ये डिजिटल हस्तांतरण (transaction) का सत्यापन, जाँच करके पूर्ण करने का कार्य करता है। और साथ ही नए क्रिप्टो करेंसी के निर्माण में उनके अंतर को चिन्हित करने का कार्य क्रिप्टोग्राफ़ी से ही होता है।

क्रिप्टोकररेंसी में आदान प्रदान (एक्सचेंस) मुख्य रूप से ब्लॉकचैन तकनीक पर आधारित होते है जो क्रिप्टोकररेंसी को डिसेंट्रलाइज़्ड रूप में रखता है। ब्लॉकचैन, एक सार्वजनिक बही खाता की तरह है जिसमे अब तक उस नेटवर्क में किये गए सभी लेन देन की जानकारी होती है। इसलिए उस नेटवर्क के हर कोई सभी लेन देन की जानकारी देख सकता है।

क्रिप्टो करेंसी की शुरुआत कब हुई थी?

क्रिप्टो करेंसी का अविष्कार साल 2008 में बिटकॉइन के रूप में हुआ जिसे सतोशी नाकामोतो नाम के अज्ञात व्यक्ति या समूह ने बनाया था। हालाँकि इसकी शुरुवात साल 2009 में हुआ क्योकि लगभग एक साल तक यह ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर की तरह डेवलपमेंट स्टेज पर था।

पूरी दुनिया में सबसे पहले किसी क्रिप्टोकरेंसी का एक्सचेंज साल 2009 में बिटकॉइन के ट्रांसेक्शन के साथ हुआ, जिसे सातोशी नाकामोतो ने ही किया था।उन्होंने पुरे क्रिप्टो करेंसी के नेटवर्क (ब्लॉकचैन) की शुरुवात की। जिसे फाइनेंसियल मार्किट में सबसे बड़े अविष्कार के रूप में देखा जाता है।

बिटकॉइन के शुरुवात के साथ ही डिजिटल मुद्रा के क्षेत्र में एक नए युग का आरम्भ हुआ। जिसके बाद से ही लंबे या बड़े वर्ग, आपूर्ति और नई गणनाओं के साथ भविष्य की अर्थव्यवस्था के अनुकूल परिस्थितियों को ध्यान में रखकर डिजिटल मुद्रा बनाई जा रही है। जो की भविष्य में धन के रूप में भी इस्तेमाल हो सकता है।

क्रिप्टोकररेंसी का इस्तेमाल वर्तमान में पूरी दुनिया में तेजी से बढ़ते जा रहा है। अगर किसी क्रिप्टोकरेंसी की तुलना फ़िएट मनी या नकद से उसके विनिमय दर यानी एक्सचेंज रेट पर की जाए तो यह उपयोगी और लाभकारी हो सकता है।

क्रिप्टोकरेंसी के फायदे | Benifits of Cryptocurrency

अगर आप क्रिप्टो में निवेश की सोच रहे है तो इसके फायदों के बारे में जरूर जान लें। सबसे पहले तो यह एक विकेन्द्रीकृत (Decentralized) डिजिटल मनी है। इसलिए इस पर किसी भी संस्था, संगठन या सरकार का कोई भी हस्तक्षेप नहीं रहता यानी आपके निवेश पर आपका पूरा नियंत्रण रहेगा।

इसमें अपने एसेट्स के साथ कुछ भी करने के लिए आपको किसी से भी अनुमति की जरुरत नहीं होती, इसमें पूरा हक़ आपका होता है। चूँकि यह क्रिप्टोग्राफ़ी और ब्लॉकचैन पर आधारित है इसलिए सुरक्षा के मामले में बेहद सुरक्षित है।

दूसरा यह निवेश के नजरिये से काफी फायदेमंद साबित हो सकता है क्योकि यह तेजी से घटता बढ़ता है। और ऐसे कॉइन जिनकी सप्लाई सिमित है, समय समय में कॉइन बर्न किये जाते है और मजबूत आधार है ऐसे एसेट्स आपको मुद्रास्फीति (inflation) या महँगाई दर से बचा सकती है।

इनके आलावा, क्रिप्टो के माध्यम रेगुलर इनकम कमाने के भी बहुत से तरीके है, जैसे आप क्रिप्टो माइन कर सकते हैं, इसे उधार देकर कमा सकते एथेरियम क्या है हैं, क्रिप्टो उधार भी ले सकते हैं और क्रिप्टो स्टेकिंग कर एक निश्चित आय भी कमा सकते है।

क्रिप्टोकरेंसी के नुकसान | Disadvantages of Cryptocurrencies

ढेरो खुबिया होने के बावजूद इसमें बहुत सी खामिया भी है। इसे इस्तेमाल करना यानी इसके वॉलेट का प्रयोग, ट्रांसेक्शन करना, अपने क्रिप्टो को सुरक्षित करना आदि सीखने में थोड़ा समय लगता है यानि वर्तमान में यह पूरी तरह से यूजर फ्रेंडली नहीं है। पर जिस तेजी से लोग इसमें जुड़ते जा रहे है इसमें बहुत तेजी से सुधर हो रहा है।

और इसमें आपके क्रिप्टो के साथ कुछ भी होने पर केवल आप ही जिम्मेदार होंगे क्योकि आपके एसेट्स पर आपका पूरा नियंत्रण रहता है इसलिए आपको इसकी सुरक्षा भी खुद ही करनी होगी। थोड़ी सी भी चूक होने पर आप अपना पूरा क्रिप्टो (एसेट्स) हमेशा के लिए खो सकते है। और इन सबकी शिकायत के लिए ग्राहक सहायता जैसी कोई भी सुविधा नहीं होती। यानी थोड़ी सी चूक नुकसान दायक हो सकता है। इसलिए क्रिप्टो और विकेन्द्रीकृत में सिक्योर रहने के लिए आपको सुरक्षा प्रोटोकॉल का ध्यान से पालन करें।

और अंत में बात करते है इसकी अस्थिरता (volatility) की। क्रिप्टो करेंसी बेहद अस्थिर है, इनमे बहुत तेजी से उतर चढ़ाव होता है। जिस कारण इसमें अधिक मुनाफा भी होता है लेकिन उसी तरह अधिक नुकसान भी हो सकता है। लेकिन अगर आप क्रिप्टो में ट्रेडिंग करते हो तो जानते ही होंगे की यह बड़ी समस्या नहीं है। और इससे बचने के बहुत से तरीके है। जैसे स्टेबल कॉइन में निवेश कर सकते है या पोर्टफोलियो को डाइवर्सिफाई किया जा सकता है। और तो और क्रिप्टो मार्किट की अस्थिरता समय के साथ कम होते जा रहा है। यानि इसकी अस्थिरता भविष्य में ज्यादा मायने नहीं रखेगी।

बिटकॉइन-इथीरियम में 100 रुपये लगाकर पा सकते हैं बंपर मुनाफा, SIP की तरह करना होगा निवेश

Bitcoin: क्रिप्टोकरंसी में निवेश के इच्छुक किसी व्यक्ति को पहले अपना अकाउंट खोलना होता है. एक पैन कार्ड पर क्रिप्टो ट्रेडिंग के लिए एक अकाउंट ही खोल सकते हैं. जैसा बैंकों में निमय है, वैसा ही एथेरियम क्या है क्रिप्टो के लिए भी है. क्रिप्टो एक्सचेंज में अकाउंट खोलने के लिए केवाईसी कराना होता है.

बिटकॉइन-इथीरियम में 100 रुपये लगाकर पा सकते हैं बंपर मुनाफा, SIP की तरह करना होगा निवेश

TV9 Bharatvarsh | Edited By: Ravikant Singh

Updated on: Jun 17, 2021 | 6:49 PM

भारत में क्रिप्टोकरंसी (cryptocurrency) इंडस्ट्री ने तेजी से जगह बनाई है. बहुत कम समय में इसका बाजार बढ़ा है. क्रिप्टो आधारित कंपनियों पर से सुप्रीम कोर्ट की ओर से पाबंदी हटने के बाद इसमें और बढ़ोतरी देखी जा रही है. आज की तारीख में तकरीबन 1 करोड़ भारतीयों ने क्रिप्टो में निवेश किया है. पिछले एक साल में इन निवेशकों ने अच्छा रिटर्न भी पाया है. निवेशकों के लिए किसी भी क्रिप्टोकरंसी में पैसे लगाने का तरीका वैसे ही है, जैसे इक्विटी आदि में लगाते हैं. नए निवेशक चाहें तो 100 रुपये से निवेश शुरू कर सकते हैं.

जियोटस (Giottus) के सीईओ और को-फाउंडर विक्रम सुब्बुराज के मुताबिक, क्रिप्टोकरंसी में निवेशक 100 रुपये भी लगा सकते हैं और इसके लिए वे क्रिप्टो आधारित कॉइन या टोकन में बहुत कम मात्रा में खरीदारी कर सकते हैं. अच्छा यह रहता है कि पैसे को अलग-अलग क्रिप्टो में अलग-अलग अवधि के लिए लगाया जाए. किप्टो की तरह मीम कॉइन डोजकॉइन और शिबू इनु मशहूर हैं जिसमें पैसा निवेश किया जा सकता है. विक्रम सुब्बुराज कहते हैं, सही रिटर्न के लिए जरूरी है कि टॉप 10 क्रिप्टोकरंसी में निवेश किया जाए.

अगर पोर्टफोलियो की बात करें तो 40 परसेंट बिटकॉइन में, 40 परसेंट इथीरियम (अन्य टॉप 10 क्रिप्टो में इस पैसे को बांट सकते हैं) और बाकी बचा 20 परसेंट हाई रिस्क कॉइन में लगा सकते हैं. क्रिप्टो में पैसे लगाएं और कुछ दिन धीरज रखें, बाजार को मैच्योर होने दें. पैसा निकाल कर कहीं और निवेश करने की जल्दबाजी न करें.

क्रिप्टो एक्सचेंज के बारे में जानें

Giottus एक क्रिप्टो प्लेटफॉर्म है जहां इसकी ट्रेडिंग की जा सकती है. ट्रेडिंग के लिए बहुत कुछ करने की जरूरत नहीं है. 5 मिनट के अंदर रजिस्ट्रेशन हो जाता है, वह भी भारतीय केवाईसी नियमों के साथ. केवाईसी के तुरंत बाद अगर डॉक्युमेंट दुरुस्त हों तो वेरिफिकेशन हो जाता है और 15 मिनट में ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं. जियोटस जैसे प्लेटफॉर्म पर एक साथ 100 से ज्यादा क्रिप्टोकरंसी की जानकारी मिलती है जहां 100 रुपये से भी निवेश शुरू कर सकते हैं. इसके लिए प्लेटफॉर्म पर पैसा जमा करना होता है. कुछ प्लेटफॉर्म पैसा जमा करने के लिए शुल्क लेते हैं, कुछ नहीं. इसी जमा पैसे से क्रिप्टो में निवेश शुरू होता है.

कैसे खोलें खाता

क्रिप्टोकरंसी में निवेश के इच्छुक किसी व्यक्ति को पहले अपना अकाउंट खोलना होता है. एक पैन कार्ड पर क्रिप्टो ट्रेडिंग के लिए एक अकाउंट ही खोल सकते हैं. जैसा बैंकों में निमय है, वैसा ही क्रिप्टो के लिए भी है. हालांकि एक पैन से क्रिप्टो के अलग-अलग एक्सचेंज में कई अकाउंट खोल सकते हैं. क्रिप्टो एक्सचेंज में 24 घंटे और सातों दिन ट्रेडिंग कर सकते हैं. नए निवेशकों के लिए सलाह दी जाती है कि जोखिम को ध्यान में रखते हुए ही क्रिप्टो की ट्रेडिंग करें. क्रिप्टो के दाम उतार-चढ़ाव में या तो तेजी से गिरते हैं या तेजी से चढ़ते हैं. यानी कि भारी मुनाफे के साथ भारी गिरावट का भी खतरा होता है. इसलिए दिल थाम कर क्रिप्टो की ट्रेडिंग में हाथ लगाना चाहिए.

बिटकॉइन से करें शुरुआत

हर क्रिप्टोकरंसी अपने आप में यूनिक एथेरियम क्या है है और उसी हिसाब से उसकी ट्रेडिंग होती है. नए निवेशक जब खरीदारी करने चलें तो उसके बारे में ठीक से रिसर्च कर लें. जैसे नंबर टू क्रिप्टोकरंसी इथीरियम एक प्लेटफॉर्म भी है जिसे अलग-अलग ऐप के जरिये खरीदा जा सकता है. ऐसा नहीं है कि किसी खास ऐप से ही इसकी ट्रेडिंग और खरीदारी होगी. जैसे मोबाइल में एंड्रॉयड सिस्टम अलग-अलग मोबाइल कंपनियों में काम करता है, वैसे ही इथीरियम अलग-अलग ऐप पर भी काम करता है. नए निवेशकों को एक्सपर्ट सलाह देते हैं कि बिटकॉइन और इथीरियम में पैसा लगाकर शुरुआत करनी चाहिए. ठीक वैसे ही जैसे इक्विटी में एसआईपी के जरिये निवेश शुरू करते हैं.

सावधानी के साथ करें निवेश

भारत में अभी क्रिप्टोकरंसी रेगुलेटेड नहीं है, सरकार और रिजर्व बैंक का अभी रुख साफ नहीं है. ऐसे में कम पैसे में निवेश करने की सलाह दी जाती है. ट्रेडिंग का मतलब होता है कि खरीदारी पर कितना मुनाफा कमाते हैं. कोई किप्टो कितने में खरीदते हैं, ट्रेडिंग का मकसद यह नहीं होता है. इसी हिसाब से क्रिप्टो में पैसे लगाने और उसे जारी रखने पर फोकस करना चाहिए. नए निवेशकों को अपने पोर्टफोलियो में 2-3 परसेंट क्रिप्टोकरंसी को रखना चाहिए. बाद में मार्केट की समझ हो जाए तो निवेश बढ़ा सकते हैं.

10 मुख्य क्रिप्‍टोकरेंसी, जिनके बारे में सभी को पता होना चाहिए, मिलेगा मोटा मुनाफा

दुनिया में प्रचलित दर्जनों क्रिप्‍टोकरेंसी के बीच 10 डिजिटल करेंसीस ने लोगों को खूब मुनाफा दिया है.

दुनिया में प्रचलित दर्जनों क्रिप्‍टोकरेंसी के बीच 10 डिजिटल करेंसीस ने लोगों को खूब मुनाफा दिया है.

क्या आप कनफ़्यूज हैं कि कौन सी क्रिप्टोकरेंसी खरीदें? मार्केट वैल्यू के आधार पर 10 मुख्य क्रिप्टोकरेंसी में से सही करेंसी कैसे चुनें? इसके बारे में सब कुछ यहां जानें.

  • News18Hindi
  • Last Updated : September 27, 2021, 19:38 IST

इस समय पूरी दुनिया में हजारों क्रिप्टोकरेंसी चलन में हैं . इतनी बड़ी संख्या , पहली बार क्रिप्टोकरेंसी का इस्तेमाल करने वालों के लिए मुसीबत बन जाती है . वे समझ नहीं पाते कि वास्तव में किस क्रिप्टोकरेंसी पर भरोसा करें . इसके अलावा , कभी – कभी कुछ अज्ञात क्रिप्टोकरेंसी की वैल्यू अचानक 100% से ज़्यादा हो जाती है , जिससे उनके लापता होने का डर (FOMO) भी बढ़ जाता है .

अगर आप क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेड करना चाहते हैं , तो क्रिप्टोकरेंसी के बारे में जानने से पहले , कुछ जांची व परखी गई क्रिप्टोकरेंसी को समझना ज़रूरी है . इसे ध्यान में रखते हुए , हमने अगस्त 2021 तक की मार्केट वैल्यू के आधार पर 10 मुख्य क्रिप्टोकरेंसी को चुना है , ताकि आप क्रिप्टो के बारे में बेहतर तरीके से जान सकें .

1 – Bitcoin
Bitcoin दुनिया की सबसे मशहूर क्रिप्टोकरेंसी है . इस ओरिजिनल क्रिप्टोकरेंसी को वर्ष 2009 में Satoshi Nakamoto के नाम से , किसी व्य ​ क्ति या ग्रुप द्वारा बनाया गया था . ज़्यादातर क्रिप्टोकरेंसी की तरह , Bitcoin भी एक ब्लॉकचेन पर चलता है , जो हजारों कंप्यूटर का एक नेटवर्क है और किसी ब्रोकर या एजेंट के बिना रीयल – टाइम में ट्रांज़ैक्शन को वेरिफाई करता है .

बेहतरीन सुरक्षा के अतिरिक्त कॉन्सेप्ट वाला Bitcoin किसी भी टाइप की हैकिंग से पूरी तरह सुरक्षित है . अगस्त महीने के अंत में इसका मार्केट कैप 856 बिलियन डॉलर से अधिक था . एक Bitcoin की कीमत पांच साल पहले के 500 डॉलर से बढ़कर , आज लगभग 45,000 डॉलर से अधिक हो गई है . इसका मतलब यह हुआ कि इस दौरान कुल 8900% का चौंका देने वाला रिटर्न मिला .

2 – Ethereum
Ethereum एक ब्लॉकचेन नेटवर्क है जिसका मूल टोकन Ether या ETH है और इसे आमतौर पर एक क्रिप्टोकरेंसी के रूप में भी जाना जाता है . अगर आपने एनएफटी (NFT) को डिजिटल तौर पर बेचे जाने के बारे में सुना है , तो आपको पता होना चाहिए कि उन्हें ज्यादातर Ethereum ब्लॉकचेन का इस्तेमाल करके प्रोसेस किया जाता है . यह एक बेहतरीन प्लेटफार्म है जो अपग्रेड होने और ट्रेंड में टॉप पर बने रहने की कोशिश लगातार करता रहता है . इसकी नई पहल का उद्देश्य , जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता में भारी कमी लाना है .

क्रिप्टोकरेंसी के तौर पर , इसने चौंकाने वाले रिटर्न दिए हैं , जो पांच साल की अवधि में $11 से बढ़कर $3000 से भी अधिक हो गया है . 27,000% का यह रिटर्न दांतों तले उंगली दबाने जैसा है . फ़िलहाल , इसका एम – कैप $357 बिलियन से अधिक है , जो इसे दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी बनाता है .

अगर आप सोच रहे हैं कि इस तरह का रिटर्न कैसे पा सकते हैं , तो हमारे द्वारा सुझाए गए Zebpay के इस्तेमाल के बारे में ज़रूर सोचें दें . यह आपको सिर्फ़ ₹100 से शुरुआत करने और अपनी पसंद के क्रिप्टो में इन्वेस्ट करने की सुविधा देता है . अपनी पहली क्रिप्टोकरेंसी खरीदने के लिए , आपको बस अपना मोबाइल नंबर दर्ज करना है और केवाईसी के आसान प्रोसेस के ज़रिए खुद को वेरिफाई करना है .

3 – Binance Coin
$70 बिलियन से अधिक के मार्केट कैप वाला Binance Coin मौजूदा दौर की तीसरी सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी है . इसका इस्तेमाल ट्रेडिंग , पेमेंट प्रोसेसिंग या ट्रैवल बुकिंग के लिए भी किया जा सकता है . साथ ही , क्रिप्टोकरेंसी के अन्य रूपों जैसे कि Ethereum या Bitcoin के लिए भी इसे ट्रेड या एक्सचेंज किया जा सकता है .

भारत में , क्रिप्टोकरेंसी प्लेटफॉर्म Zebpay अपने उपयोगकर्ताओं के लिए कुछ और भी बेहतर सुविधाएं प्रदान करता है . Zebpay Earn के साथ केवाईसी – रजिस्टर्ड उपयोगकर्ताओं को चुनिंदा क्रिप्टो होल्डिंग्स पर , दैनिक रिटर्न मिलता है . वास्तव में , आपको केवल कुछ क्रिप्टो की होल्डिंग के बदले क्रिप्टो में भुगतान मिलता है . इसमें रिटर्न की दर 1% से 7.5% तक होती है जो आपके पास मौजूद कॉइन और क्रिप्टोकरेंसी पर निर्भर करती है . Zebpay Earn, क्रिप्टोकरेंसी को स्टोर करने और अपनी क्रिप्टो होल्डिंग्स पर , रिटर्न जनरेट करने का एक शानदार तरीका है .

4 – Cardano
Cardano एक नई क्रिप्टोकरेंसी है , लेकिन इसने आते ही धूम मचा दी और इस समय सबसे ज्यादा चर्चित क्रिप्टोकरेंसी है . बड़ी क्रिप्टोकरेंसी की तुलना में कम लागत पर ट्रांज़ैक्शन को वैलिडेट करने के लिए , इसे नए व भरोसेमंद प्रूफ – ऑफ – स्टेक मेथड के लिए जाना जाता है . अगस्त , 2021 के अंत में इसका मार्केट कैप 69 बिलियन डॉलर था .

5 – Tether
$64 बिलियन के एम – कैप वाला Tether, एक अलग तरह की क्रिप्टोकरेंसी है . इसे स्टेबल कॉइन कहा जाता है . यह अमेरिकी डॉलर जैसी फिएट करेंसी द्वारा समर्थित है , जो इसे अन्य अस्थिर क्रिप्टोकरेंसी की तुलना में अधिक स्थिर और भरोसेमंद बनाती है .

6 – XRP
XRP को डिजिटल टेक्नोलॉजी कंपनी Ripple की टीम ने बनाया है . इसका इस्तेमाल नेटवर्क के तौर पर , अलग – अलग टाइप की करेंसी को एक्सचेंज करने के लिए किया जाता है , इसमें फिएट करेंसी के अलावा अन्य प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी भी शामिल हैं . अगस्त , 2021 के अंत में XRP का मार्केट कैप $52 बिलियन था .

7 – Dogecoin
मीम के रूप में होने वाली शुरुआत , आज $40 बिलियन से अधिक वैल्यू वाली क्रिप्टोकरेंसी बन गई है . इसमें मज़ेदार बात यह है कि – 2017 में Dogecoin की वैल्यू $0.0002 थी और आज यह $0.31 है . इसका मतलब यह हुआ कि पांच वर्षों में इसमें 154900% की बढ़ोतरी हुई है !

8 – Polkadot
Polkadot को 2020 में लॉन्च किया गया था . मात्र एक साल में , इसकी वैल्यू $2.93 से बढ़कर $25.61 हो गई , यानी 774% की बढ़ोतरी हुई ! Polkadot की खासियत यह है कि यह एक क्रिप्टोकरेंसी नेटवर्क बनाने की कोशिश कर रहा है जो विभिन्न ब्लॉकचेन को जोड़ता है , ताकि उन्हें एक साथ मिलाकर काम किया जा सके . इसका एम – कैप वर्तमान में $25 बिलियन से अधिक है .

9 – USD Coin
USD Coin एक और स्टेबल कॉइन है . इसकी मार्केट वैल्यू $23 बिलियन है और लगातार बढ़ती जा रही है . यह Ethereum द्वारा संचालित है और इसका इस्तेमाल पूरी दुनिया में कहीं भी ट्रांज़ैक्शन करने के लिए किया जा सकता है .

10 – Solana
आखिर में बात करते हैं Solana की . यह , $20 बिलियन से अधिक के एम – कैप वाली क्रिप्टोकरेंसी है . यह हाल ही में अपने यूनीक हाइब्रिड प्रूफ – ऑफ – स्टेक और प्रूफ – ऑफ – हिस्ट्री मेकैनिज़्म के लिए सुर्खियों में बना रहा . गौरतलब है कि ये मेकैनिज़्म , ट्रांज़ैक्शन को जल्दी और सुरक्षित रूप से प्रोसेस करने में एथेरियम क्या है मदद करतें हैं . Solana को 2020 में लॉन्च किया गया था . उस समय इसकी कीमत $0.77 थी और आज यह 9405% बढ़कर $73.19 पर कारोबार कर रहा है .

इतने सारे विकल्प मौजूद होने पर , अब आपको यह निर्णय लेने में आसानी होगी कि कौन सी क्रिप्टोकरेंसी आपके लिए सबसे ज्यादा सही होगी . सोच – समझकर निर्णय लेने के बाद , आप इनमें से किसी भी करेंसी में इन्वेस्टमेंट की शुरुआत कम पैसे से कर सकते हैं . जैसा कि हमने पहले कहा है , आप इसके लिए एक Zebpay खाता खोल सकते हैं और केवाईसी से जुड़ी औपचारिकताएं पूरी करके , इन्वेस्ट करना शुरू कर सकते हैं . इतना ही नहीं , आप Zebpay Earn की मदद से अपनी पसंदीदा क्रिप्टोकरेंसी को होल्ड करके क्रिप्टो भी कमा सकते हैं . तो , देर किस बात की , आगे बढ़ें और आज से ही क्रिप्टोकरेंसी में इन्वेस्ट करना शुरू करें !

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

रेटिंग: 4.95
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 773
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *